भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बर्फ़ / मुइसेर येनिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं अधूरे कदमों से चल रही हूँ
उन पहाड़ों पर जो कभी थे ही नहीं
मेरी देह बरस रही है जैसे पत्थरों की आंधी
मेरी देह, सबसे कठोर वस्तु है मुझ में

यह पानी
पराजित और थका हुआ
जैसे समुद्र की गहराई ने
चट्टानों से आईना बनाया
और किसी फ्रेम के लिए सजा दिया

जब हवा हिलाती है दरख़्तों को
मैं इन थपेड़ों में खो देना चाहती हूँ खुद को

बर्फ़ ने जैसे कसम खा रखी है
हर चीज़ को ढँक देने की....