भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बस्ता बरदार / सुदर्शन वशिष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

याद नहीं
कब पकड़ा पहली बार उनका बस्ता
इज़्ज़त मान की खातिर
जब वे चलने लगते
कोई न कोई आगे बढ़ पकड़ ही लेता
कब वह बढ़ा आगे और
सब से आगे ही रहा
अब याद नहीं।

अब सोचता
फैंक दे उनका बस्ता गहरी खाई में
उसका खुद का बस्ता हो
कोई आगे आए और संभाले।

आज ज़रूरत है हर जगह
बस्ता बरदारों की
नेता अभिनेता लेखक आलोचक
सब चाहते हैं
उनका हो एक बस्ता बरदार
उससे ही बनती है इज़्ज़त,रौब दाब।

कई जगह विज्ञापन छपते हैः
चाहिए एक बस्ता बरदार
फुर्तीला और ताकतवर जवान
जो एकदम झपट ले
और उठा कर चले साथ-साथ
भीड़ रोके,पीछे हटाए।

कभी चाहते हैं आज बस्ता बरदार
जो आगे चले।