भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बस्ता / जय गोस्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पृथ्वी को पीठ पर लादे यह मैदान पार करता चला
पीठ के बस्ते में है बहुत-कुछ-
बहुत से बच्चों की रुलाई, माँ की झिड़की-
गृहस्थ के घर घुसे चोर का
पैर फिसल गिर पड़ने की आवाज़-
कराह है
मृत्यु-पथगामी का अस्फुट स्वर में बोलना
'मत मार मुझे'

यह मैदान पार हो चला
पीठ की गठरी से उस राह पर
टप-टप ख़ून टपकता जाता-
ख़ून टपकता है पीछे पाँव के, पजामे पर
विराट बस्ते में केवल खड़बड़ हो रहा । लोथड़े सारे
फिर से न हो जाएँ ज़िन्दा !


बांग्ला से अनुवाद : संजय भारती