भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बस्ती के उस पार से तो कभी वनों के पीछे से / ओसिप मंदेलश्ताम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ओसिप मंदेलश्ताम  » संग्रह: सूखे होंठों की प्यास
»  बस्ती के उस पार से तो कभी वनों के पीछे से

बस्ती के उस पार से तो कभी वनों के पीछे से
कभी लम्बी दूरी की, लदी मालगाड़ी के नीचे से
सत्ता के समर्थन में जब गूँजेगा तू बनकर भोंपू
सरस किलकारियाँ भरेगा, हकूमत के बगीचे से

घनघनाएगा, बुड्ढे, तू पहले, फिर साँस लेगा मीठी
और सागर-सा गरजेगा कि दुनिया तूने यह जीती
गूँजेगा तू लम्बे समय तक, कई सदियों के पार
सब सोवियत नगरों की, बस होगा तू ही तो सीटी

रचनाकाल : 6-9 दिसम्बर 1936