भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बस इतना जान पाती कि किस जुबान का / वेरा पावलोवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बस इतना जान पाती कि
किस जुबान का
तर्जुमा है तुम्हारा ‘आई लव यू’ ,

और पा जाती वह असल,
तो देखती शब्दकोष

जानने को कि
तर्जुमा है चौकस
या तर्जुमा-नवीस की नहीं है कोई खता ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल