भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बहार आई है क्या क्या चाक जैब-ए-पैरहन करते / इनामुल्लाह ख़ाँ यक़ीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बहार आई है क्या क्या चाक जैब-ए-पैरहन करते
जो हम भी छूट जाते अब तो क्या दीवाना-पन करते

तसव्वुर उस दहान-ए-तंग का रूख़्सत नहीं देता
जो टुक दम मार सकते हम तो कुछ फ़िक्र-ए-सुख़न करते

नहीं जूँ पंजा-ए-गुल कुछ भी इन हाथों में गीराई
वगरना ये गरेबाँ नज़्र-ए-ख़ूबान-ए-चमन करते

मुसाफ़िर हो के आए हैं जहाँ में तिस पे वहशत है
क़यामत थी अगर हम इस ख़राबे में वतन करते

कोई फ़रहाद जैसे बे-ज़बाँ को क़त्ल करता है
‘यक़ीं’ हम वाँ अगर होते तो इक-दो बचन करते