भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बहार आई है सोते को टुक जगा / 'फ़ुगां'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बहार आई है सोते को टुक जगा देना
जुनूँ ज़रा मेरी ज़ंजीर को हिला देना

तेरे लबों से अगर हो सके मसीहाई
तो एक बात में जीता हूँ मैं जिला देना

अब आगे देखियो जीतूँ न जीतूँ या क़िस्मत
मेरी बिसात में दिल है उसे लगा देना

रहूँ न गर्मी-ए-मजलिस से मैं तेरी महरूम
सिपंद-वार मुझे भी ज़रा तू जा देना

ख़ुदा करे तेरी ज़ुल्फ़-ए-सियह की उम्र दराज़
कभी बला मुझे लेना कभी दुआ देना

ब-रंग-ए-ग़ुंचा ज़र-ए-गुल के तईं गिरह मत बाँध
‘फ़ुग़ाँ’ जो हाथ में आवे उसे उड़ा देना