भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बहुतायत की आँधी में / निशान्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जवानी की दहलीज़ पर
खिंचाई थी जो फ़ोटो
किसी तरह
सुरक्षित है आज भी घर में

लेकिन शेष जो सैंकड़ों
खिंचाई गईं आज तक
बची नहीं एक भी
बहुतायत की आँधी में

उड़ गईं सब
यही क्यों
कितनी ही तो
अच्छी चीज़ें थीं घर में
मसलन क़िताबें
पत्रिकाएँ
डायरियाँ
चिट्ठियाँ
जिन्हें संभाल नहीं पाए हम

यह तो कहानी है एक घर की
मुझे लगता है
देश
और
देश के बाहर भी
दुहराई जा रही है
यह कहानी
हर कहीं ।