भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बहुत कुछ बचा है / देवेंद्रकुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शुक्र है
अभी सब खत्म नहीं हुआ
बहुत कुछ बच गया है,
क्योंकि मैं देख रहा हूं बच्चे
खेलते हुए
अधडूबे, डगमग मकानों की
ढालवां छतों पर।

अब जाकर
मेरी उदासी कम हुई है
पानी की चादर ओढ़े
खेत-मकान, आदमी-
ऊपर नीले आकाश में
पतंगें उड़ रही हैं
पेड़ों पर परिन्दे बेखबर,
मैं कहता हूं
अभी बहुत कुछ बचा है
सामने बच्चे खेल रहे हैं।