भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बहुत गहरा सन्नाटा / रोज़ा आउसलेण्डर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ लोग भाग निकले
और बच गए

रात में
वे हाथ थे
लाल ईंटों की तरह
लाल रक्त में डूबे

बहुत शोर भरा था यह नाटक
आग के रंगीन चित्र जैसा
अग्नि-संगीत के साथ

फिर मौत थी मौन
चुप और निस्तब्ध !

सन्नाटा चीख़ रहा था वहाँ
हँस रहे थे सितारे
टहनियों के बीच से

भागे हुए लोग
इन्तज़ार कर रहे थे बन्दरगाह पर
और पानी पर झूल रहे थे पोत
पालने की तरह
माँओं और बच्चों के बिना ।

रूसी भाषा से अनिल जनविजय द्वारा अनूदित