भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाँसुरी / स्वप्निल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं बाँस का एक टुकड़ा था
तुमने मुझे यातना दे कर
बाँसुरी बनाया

मैं तुम्हारे आनन्द के लिए
बजता रहा
फिर रख दिया जाता रहा
घर के अन्धेरे कोने में

जब तुम्हें ख़ुश होना होता था
तुम मुझे बजाते थे

मेरे रोम-रोम में पिघलती थीं
तुम्हारी साँसें
मैं दर्द से भर जाया करता था

तुमने मुझे बाँस के कोठ से
अलग किया
अपने ओठों से लगाया

मैं इस पीड़ा को भूल गया कि
मेरे अन्दर कितने छेद हैं

मैं तुम्हारे अकेलेपन की बाँसुरी हूँ
तुम नहीं बजाते हो तो भी
मैं आदतन बज जाया करता हूँ।