भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बागां में फूल फूलां में सौरम है / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बागां में फूल फूलां में सौरम है
आ रुत हुई नशीली रुत में दम है

नैणा में जादू होठां में इमरत
थारै हाथां जो पी लेवां कम है

थारा पग पड्यांप दूणो हो जासी
म्हारी मन-गळी में हरख हरदम है

मुळकै बतळावै दिशावां आज तो
नाचै-गावै हवा हुवै छम-छम है

सुपनां में चूड़ी-टिकी-गळबाथां
मन म्हारा घर हालण रो मौसम है