भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बागों की अजब बहार / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बागों की अजब बहार, सहाना बना बागों में उतरा।
सहाने अब का मैं सेहरा सँम्हारूँ, लाले बने का मैं सेहरा सँम्हारूँ।
लड़ियों की अजब बहार, बागों की अजब बहार॥1॥
लाड़ो[1] का दुलहा बागों में उतरा, सहाने बने का मैं जोड़ा सँम्हारूँ।
जोड़े में लगे हीरा लाल, लाड़ो का बना बागों में उतरा॥2॥
सहाने बन का मैं बीड़ा सँम्हारूँ सुरखी[2] में लगे हीरा लाल।
लाड़ो का बना बागों में उतरा, सुरखी की अजब बहार।
केसरिया बना बागों में उतरा॥3॥
सहाने बने की मैं लाड़ो सँम्हारूँ, घूँघट में लागे हीरे लाल।
लाड़ो का बना बागों में उतरा, सूरत की अजब बहार।
केसरिया बना बागों में उतरा॥4॥

शब्दार्थ
  1. लाड़ली, दुलहन
  2. लाली