भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाजार बकेंदी बरफी (ढोला) / पंजाबी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बाजार बकेंदी बरफी

मैंनू लैंदे निक्की जिही चरखी

ते दुखाँ दीया पूणीयाँ

जीवें ढोला !

ढोल जानी !

साडी गली आवें तैंडी मेहरबानी !


भावार्थ


--'बाज़ार में बरफ़ी बिकती है

मुझे छोटी-सी चरखी ले दो

और दुखों की पुनियाँ

जीते रहो, ढोला !

ओ ढोल, ओ प्राणधन !

तुम हमारी गली में आओ तो तुम्हारी मेहरबानी हो !'