भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाड़े की भेड़ें / सुदर्शन वशिष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बिना बाड़े के रहती हैं
गद्दी की भेड़ें
सौ दो सौ तीन सौ
एक साथ
कोई बाड़, नहीं बाड़ा नहीं
सभी बैठतीं अंदर अंदर होतीं
एक दूसरे से सट कर
बाहर की ओर मुँह करना
किसी को गवारा नहीं।भा


गद्दी बैठता मजे से दूर
खाना पकाता
बाँसुरी बजाता।

जो रहतीं बाड़े में
खूँटे से बन्धी
चारा छोड़
भागना चाहती बाहर।