भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

बाड़ै सूं बारै बाड़ै में / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गरभ रै बाड़ै सूं बारै आवतां ई
बारै लाधै
अठै बाड़ो बठै बाड़ो
आगै बाड़ो लारै बाड़ो
बाड़ां में बड़ मेल्या है
       बड़ा-बड़ा मिनख
गिरज दीठ सूं सोधता फिरै
आप आपरै बाड़ै खातर
          नुंवी मुरतां
हत्थै चढ़ता ई फट दाग देवै
आपरै बाड़ै रो ऐनाण


बाड़ै सूं बारै रैवण
रो गुमेज करणियां ई
सोधै अर दागै
बाड़ै सूं बारै हुवण री छाप

बाड़ां सूं बारै हुवण खातर
बाड़ै सूं बारै हुवण रो बाड़ो जरूरी है ?