भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाड़ / बालकृष्ण काबरा 'एतेश' / कार्ल सैण्डबर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लेक फ्रण्ट पर अब
स्टोन हाउस का काम पूरा हो गया है
और कामगारों ने
बाड़ बनाना शुरू कर दिया है।

बाड़ में
इस्पाती नोकों वाली
लोहे की सलाखें हैं
जो इन पर गिरने वाले व्यक्ति में
घुसकर छीन सकती हैं जीवन।

बाड़ के रूप में यह एक श्रेष्ठ रचना है
और रोकेगी यह आमजनों और
सभी आवारा व भूखे लोगों
और खेलने के लिए जगह ढूँढ़ते सभी भटकते बच्चों को।

सलाखों और इस्पाती नोकों पर से
जाने वालों को मिलेगा कुछ नहीं
बस, मृत्यु, दुख की बारिश और निर्जीव कल।

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : बालकृष्ण काबरा 'एतेश'