भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाढ़ के दिनों में सरकार के बंदों से / मनोज कुमार झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या तुम्हें शर्म नहीं आती!
क्या तुमने दूध के लिए रोते बच्चों को देखा है?
अपनी माँ से पूछ लो
नहीं, तुमसे छूट गई होगी वो भाषा
जिसमें माँओं से बात की जाती है।
क्या तुमने तेजाब की शीशी को
बच्चों की पहुँच से दूर किया है कभी?
अपनी पत्नी से पूछ लो
नहीं, तुम्हारे पास वो वीणा कहाँ जिसपर
बच्चों के हित बढ़ रहे स्त्रियों के हाथ बजते हैं ।

तुमने परमाणु बम बनाया
      चाँद को छूआ
वह दस दिन का बच्चा डूब रहा पानी में
वो कागज का टुकड़ा नहीं जिसे तुम फेंक देते हो बिना दस्तखत के
शिशु-शरीर वह बसती है जिसमें सभ्यता की सुगंध
तुम इस दस दिन के बच्चे को नहीं बचा सकते
तुम्हें शर्म नहीं आती!

तुम्हें नींद आती है!
अब तो मुझे शर्म अपने पुरखों पर कि उन्होंने नींद तक राहें बनाईं
मुझे शर्म है अपनी नींद पर भी
कि जिससे तेरा रिश्ता उससे मेरा भी।