भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बातचीत / एलीसिया पार्तनॉय / यादवेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं तुमसे
कविता पर
बात कर रही हूँ,

और तुम हो,
कि कहते हो
हम खाना कब खाएँगे।

सबसे ज़्यादा
चुभने वाली
बात यह है,
कि सिर्फ़ तुम ही नहीं,
बला की भूखी हूँ मैं भी।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : यादवेन्द्र