भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बातों के मौसम / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गहरा जैसा क्या है इसमें
जो हम जीते रहते हैं
बातों के कितने ही मौसम
आते-जाते रहते हैं
कहे और अनकहे के भीतर
छूट गये - से खानों में
सिली हुई-सी भीगी बातें
यूँ ही रखते रहतें हैं...
जब फिर खामोशी छाती है
तनहाई की खिली धूप में
उन गीली-गीली बातों को
धूप दिखाते रहते हैं...
कभी पुराना कोई खाना
बातों की अलमारी में
खुल जाए
तो फिर से कोई
बात पुरानी कहते हैं
नये-नये मतलब गढ़ते हैं
सीधी-सादी बातों के...
कभी अकेले हँसते हैं
फिर कभी बेवजह रोते हैं
अनजाने कह दी थी तुमने
हमने अब तक रखी है
उलट-पलट बात तुम्हारी
अक्सर सुनते रहते हैं...