भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बात कुछ दिल की तो क्या बन पायेगी / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बात कुछ दिल की तो क्या बन पायेगी
हां हमारी जान पर बन जायेगी

मौत को आना है इक दिन आयेगी
जान को जाना है आख़िर जायेगी

सो तो जायेगा अजल की गोद में
आंख तो बीमार की लग जायेगी

आप रो रो के मनाएं ग़ैर को
ये क़ियामत किस से देखी जायेगी

और कोई ख़िदमत ए नासिह बता
मयकशी हम से न छोड़ी जायेगी

हिचकियों में कट गया दिन ऐ 'वफ़ा'
सिसकियों में रात भी कट जायेगी।