भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बात बाक़ी है / पवन कुमार मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बूँद आख़िरी ख़त्म हुई होंठो पर प्यास रही बाक़ी,
बंद हुए सब मयख़ाने पीने की आस रही बाक़ी ।

सैय्यादो की बस्ती में पंछी किससे फ़रियाद करे,
फ़रमान मौत का सुना दिया इलज़ाम लगाना है बाक़ी ।

कालिख भरी कोठरी से बेदाग़ गुज़रना मुश्किल है,
अब तक कोरे दामन पर तोहमत का लगना है बाक़ी ।

दावा है उनका पहुँचेंगे इक दिन चाँद-सितारों तक,
लेकिन पहले तय कर लो जो दिलों में दूरी है बाक़ी ।

पूरब में उड़ती हुई घटाओ ! इक दिन मेरे घर आना,
बीत गए सावन कितने पर मेरा आँगन है बाक़ी ।

बूँद आख़िरी ख़त्म हुई होंठों पर प्यास रही बाक़ी,
बंद हुए सब मयख़ाने पीने की आस रही बाक़ी ।