भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बादर के मनमानी / प्रमोद सोनवानी 'पुष्प'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देखा बादर के सईतानी।
करथे ओ कतका मनमानी।

गरजत-घुमरत आथे जी।
बिजली घलो चमकाथे जी।

हमला खुबेच सताथे जी।
बरसा घलो कराथे जी।

अबड़ चुहथे खपरा के छानी।
देखा बादर के सईतानी।