भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बादल आ गए हैं / विमल कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब मुझे किसी बात की चिन्ता नहीं
नहीं है कोई डर
बादल आ गए हैं
दफ़्तर से लौटने पर
मैंने देखा घर में
बारिश की दो बूँदें
तुम्हारे माथे पर पड़ी थीं
कोई बादल ही था
जो छिपा हुआ था
पीछे तुम्हारे काले जूड़े में
उसी दिन मुझे
उस बादल से
तुमसे बहुत प्यार हो गया था
चलते-चलते अन्धेरे में
जैसे मैं जंगल से पार हो गया था।