भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बादल / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(1)
गरज रहा बादल घम-घम,
चमक रही बिजली चम-चम,
बरस रहा पानी झम-झम,
धरती तर, गर्मी अब कम।
(2)
चमके जब बिजली चंचल,
गरजे तब गड़-गड़ बादल।
प्यास बुझता धरती की,
यही कला उसने सीखी।

 [रचना : 8 मई 1996]