भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बापरयेड़ी सूनाण / राजेन्द्र देथा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उणां दिनां री ओळ्यूं
आवतां ही अचाणचक
बापर ज्यावै कंठा तांइ
अबोली सी सूनाण,
अर हो ज्यावै अदीठ
सगळा आखर,
ठीक बियां ही जियां
बापरीजै सुनियाड
दिन ढल्या पाछे
गांव री उतरादी सीम में

औ म्हारा सोनहार!

जै सुण ज्यावै थारै
होंठा रै कुंपळा सू्ं
निकळतो एक हेलो,
तो स्यात बिखर ज्यावै
औ सूनाण ठीक बियां ही
जियां थळी मांय फिरते
नासेटू रै कंठा में पड़े
दीवड़ी रौ एक घूंट अर
हो ज्यावै कंठ निर्मळ।

घणौ'इ बखत कट ग्यौ
इण आमण-दूमणी सूनाण में
देख अब रूंख भी हरया हुग्या।
अब आ मिळ भी लेवां गांव
आळी तळाई माथे जठै आखै
गांव रा सगळा शक माफ़ हूया करै!