भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाबर / हमें भूल मत जइयो राजा जी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रचनाकार: ??                 

हमें भूल मत जइयो, राजा जी!

ओ राजा जी! सौतन के लम्बे-लम्बे केस
उलझ मत जइयो, ओ राजा जी! हमें भूल मत जइयो...

ओ रानी जी! जाना पड़ेगा बिदेस
सन्देसा देती रहियो, ओ रानी जी! हमें भूल मत जइयो...

पूरब मत जइयो, ओ मोरे राजा! मालन के तीखे-तीखे नैन
घायल न हो जइयो, ओ राजा जी! हमें भूल मत जइयो...

दिल तो रहेगा पास तुम्हारे, नादां है कुछ मत कहियो,
सन्देसा देती रहियो, ओ रानी जी! हमें भूल मत जइयो...

पस्चिम मत जइयो, ओ मोरे राजा! पनिहारी की मतवाली चाल,
मचल मत जइयो, ओ राजा जी! हमें भूल मत जइयो...

प्यासी रहूँ पर पनघट न जाऊँ, तुम ही प्यास बुझइयो,
सन्देसा देती रहियो, ओ रानी जी! हमें भूल मत जइयो...