भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाबा के अँगना लवँग केर गछिया / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बाबा के अँगना लवँग केर गछिया[1]
फूल चुअए[2] चारो कोना, रे मेरो टोना॥1॥
फूल चुन चुन तबीज[3] बनैलों[4]
बान्हू[5] दुलरइता दुलहा बाजू[6] रे मेरो टोना॥2॥

शब्दार्थ
  1. गाछ
  2. चूते हैं, टप-टप गिरते हैं
  3. गलियों में
  4. मारना
  5. बाँधता हूँ
  6. बाजू, भुजा