भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बारिश, गिरो ना ! / शुन्तारो तानीकावा / अशोक पाण्डे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गिरो ना बारिश
उन बिना प्यार की गई स्त्रियों पर
गिरो ना बारिश
अनबहे आँसुओं के बदले
गिरो ना बारिश गुपचुप

गिरो ना बारिश
दरके हुए खेतों पर
गिरो ना बारिश
सूखे कुओं पर
गिरो ना बारिश जल्दी

गिरो ना बारिश
नापाम की लपटों पर
गिरो ना बारिश
जलते गाँवों पर
गिरो ना बारिश भयँकर तरीके से

गिरो ना बारिश
अनन्त रेगिस्तान के ऊपर
गिरो ना बारिश
छिपे हुए बीजों पर
गिरो ना बारिश हौले-हौले

गिरो ना बारिश
फिर से जीवित होते हरे पर
गिरो ना बारिश
चमकते हुए कल की ख़ातिर
गिरो ना बारिश आज!

अँग्रेज़ी से अनुवाद : अशोक पाण्डे