भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बारिश / निलिम कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसका हृदय
ऊँचा पर्वत है --
मेघ बनकर मैं उसके पास जाता हूँ
स्पर्श करता हूँ

कभी-कभी उसके पथरीले वक्ष से टकराकर
मैं नीचे आ जाता हूँ
पहाड़, पेड़-पौधों और घरों को भिगोते हुए

लोग सोचते हैं --
बारिश आई है ।

मूल असमिया से अनुवाद : पापोरी गोस्वामी