भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बारूंमास होळी / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूरज तो
रसियो जबरो
खेलै होळी
बारूंमास

भाख फाटतां ई
मारै पिचकारी
सिंदूरी किरणां री
दुनियां रै मूंडै

चमक परा जागै
सूत्योड़ा लोग

मुळकै सूरज
हाथ में लियां पिचकारी
नूंतै-
आवो, खेलां होळी !