भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बार-बार / रैनेर मरिया रिल्के

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह जानते हुए भी
कि प्रेम के परिदृश्य में
नज़र आता है
शोकाकुल करते नामों वाला
एक छोटा-सा क़ब्रिस्तान

और एक
ख़ौफ़नाक ख़ामोश रसातल
जहाँ गिरते दिखाई देते हैं दूसरे भी
बार-बार

फिर भी
पुराने दरख़्तों तले
साथ घूमते हैं हम दोनों
बार-बार

आसमान से आँख मिलाते
पड़े रहते हैं फूलों बीच
बार-बार
 
अँग्रेज़ी से अनुवाद -- नीता पोरवाल