भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बार ऐन बग्वाली, माधोसिंह / गढ़वाली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

माधोसिंह

बार ऐन बग्वाली, माधोसिंह,
सोल ऐन सराध, माधोसिंह।
मेरो माधो नी आयो, माधोसिंह।
त्वै जागो रैन, माधोसिंह
तेरी राणी बौराणी, माधोसिंह।
दाल दलीं रै, माधोसिंह।
चौंल डङ्यां रया, माधोसिंह।
तेरी ब्बै रोंदी रे, माधोसिंह,
मेरो माधो नी आयो, माधोसिंह।

शब्दार्थ