भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बिकना / स्वप्निल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो कभी नहीं बिके थे
वे इस बार के बाज़ार में बिक गए
सौदागर ने उनकी जो क़ीमत मुकर्रर की
वह उनकी औक़ात से ज़्दाया थी
इसलिए वे ख़ुशी- ख़ुशी बिक गए

इस ख़रीद- फरोख़्त में दलालों ने
ख़ूब माल और शोहरत कमाई
अपनी सात पुश्तों का इन्तज़ाम
कर लिया

इस ख़रीद में हर दिशा के लोग
शामिल थे
कुछ बज़िद्द लोग अपनी शर्तों में
उदार होकर बिक गए

इस बेशर्म समय में उनके पास
शर्मिन्दा होने का भाव नहीं
बचा था

जो नहीं बिके वे मूर्ख थे