भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बिना तेल बिन बाती / रामप्रसाद कोसरिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बिना तेल बिन बाती
जीवरा जारी दिन राति
जीनगी अंधियार लगे रे

बिन बरसा चुहय
आंखी के ओरवाति |
विधाता तोर महिमा, अपरमपार लागे रे

बुड़ मरे जनता,
नेता मांगे नहकाई
सरम चढ़े महंगाई, दुखिया सब संसार लागे रे