भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बिना संगीत / एल्युआर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झूठे होते हैं गूँगे
बोल

मैं वाकई नाराज़ हूँ
अकेले ही बोल, बोल
और मेरे यह शब्द
उपजाते हैं ग़लतियाँ

बोल
ऐ मेरे नन्हे हृदय
बोल।

मूल फ़्रांसिसी से अनुवाद : हेमन्त जोशी