भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बीं नगरी-गांव कूच कर बाबा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बीं नगरी-गांव कूच कर बाबा
जठै नीं हुवै कोई डर बाबा

धमाकै सागै घायल हुवै चिड़ी
कोई जतन-जापतो कर बाबा

ऐ कैवै- जबान अडाणै धरो
जीवता थकां जावां मर बाबा

आगीवाण हुया खुद धाड़ेती
हुवैला अबै किंयां बसर बाबा

ना हरख ना तिंवार अठै कोई
औ है कैड़ो-कांई घर बाबा