भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बीकानेर-3 / सुधीर सक्सेना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो बीकानेर नहीं भी गए
वो जानते हैं बीकानेर को
बाजार के रास्ते

बीकानेर का बाजार में बखूब हस्तक्षेप है
बाजार में बीकानेर के पकवानों की खेप है
बीकानेर के नमकीन हैं, मिष्ठान हैं
बहिरागतों के वास्ते नवान्न है

रोज अलसुबह
सोंधी महक के साथ जागता है बीकानेर
और तो और
बीकानेर के लिए
बीकानेर की पहचान है
बीकानेर का आस्वाद