भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बीबी आरो पैरबी / नवीन ठाकुर 'संधि'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जहाँ नै जाय पारैॅ छै रवि,
वहाँ जाय छै कवि।

सोची समझी केॅ देखै छै,
जानी बुझी केॅ लिखै छै।

असंभवोॅ केॅ संभव बनाय छै,
संभवोॅ केॅ असंभव बनाय छै।

सब्भे कामोॅ के करै छै पैरबी
जहाँ नै जाय पारैॅ छै रवि।

पैसा नें आपनोॅ-पराया केॅ भूलाय छै,
प्यार मोहब्बतें नें सब्भै केॅ घुमाय छै।

पानी सें तेॅ सब्भें प्यास बुझाय छै,
ओस चाटी केॅ जैसें संतोश बुलाय छै।

जहाँ नै जाय पारैॅ छै रवि,
वहाँ जाय छै कवि।