भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बीमार बच्चे की माँ / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दुनिया की सबसे दुखी औरत होती हैं
पर कमज़ोर नहीं होती
 बीमार बच्चे की माँ
वह जोरो से रेडियो चलाते
पड़ोसी से लेकर
लापरवाह डॉक्टर तक
 सबसे लड़ सकती हैं
 उसे जरा सा भी शक हो जाये
दवा के बारे में
केमिस्ट का गला पकड़ सकती हैं
अपने जेंटिलमेन पति की तरह
मिमिया कर चुप नहीं रह जाती
 बीमार बच्चे की माँ

अस्पताल में भर्तीबच्चा
जब बेचैनी से बदलता हैं करवट
वह ऊँघते जेठ को
झकझोर कर उठा सकती हैं
जिससे उम्र भर करती रही पर्दा

बीमार बच्चे की माँ को कुछ नहीं भाता
पति का साथ भी नहीं सुहाता
हर वक़्त घेरे रहती हैं उसे बच्चे की पीड़ा

आप बच्चे की वेदना माप सकते हैं देख कर माँ का चेहरा