भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बीमार मन / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


बीमार मन
सिंधड़ता है रोज़
बाँटता रोग
ईर्ष्या- द्वेष की सीली
काठ न जले
धुँआँ ही उगलती
नज़र न आए
खुद का भी चेहरा,
धुएँ के कोड़े
क्रुद्ध हो फटकारे
रुकना कहाँ
फेन मुँह से झरे
शब्दों का लोप
विवेक अधमरा
रात व दिन
अंगारों पर चले
औरों को दर्द ही दे
खुद भी पाए
रोगी का तन
औषध जब मिले
फूल- सा खिले
मनोरोगी कुपित
कभी चैन न पाए।
-0-