भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

बुझता खीरा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

केई दिनां पैली तो
हरेक रै हकां खातर
खीरा उछाळतो बीं रो बाको
पण जद सूं सामैं आया है
चीकणा भरवां डील
बो बंद कमरां में बंद हुयग्यो
जकै सूं कानां तांईं नीं पूगै
फालतू लोगां रो हाको !