भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बुझाए रखना / जय गोस्वामी / रामशंकर द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस समय तुम्हारी चर्चा
चलाता नहीं हूँ,
जहाँ तक हो सके
चुप ही बना रहता हूँ

मेरे लिखने का कोई मूल्य नहीं,
सच कह रहा हूँ,

जीवन में मेरे
आलोक कहने को एकमात्र
बाक़ी तुम हो

हालाँकि उस आलोक को
रोज़ ही
फूल और गंगा जल से
बुझाए ही रखता हूँ
बड़े जतन से ।

मूल बाँगला भाषा से अनुवाद : रामशंकर द्विवेदी