भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बूट पॉलिश / नन्हें मुन्ने बच्चे तेरी मुट्ठी मैं क्या है

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नन्हे मुन्ने बच्चे तेरी मुट्ठी में क्या है
मुट्ठी में है तकदीर हमारी
मुट्ठी में है तकदीर हमारी
हमने किस्मत को बस में किया है

भोली भाली मतवाली आँखों में क्या है
आँखों में झूमे उम्मीदों की दिवाली
आँखों में झूमे उम्मीदों की दिवाली
आने वाली दुनिया का सपना सजा है

नन्हे मुन्ने बच्चे तेरी मुट्ठी में क्या है

भीख में जो मोती मिलेगा लोगे या न लोगे
ज़िन्दगी के आंसुओं का बोलो क्या करोगे

भीख में जो मोती मिले तो भी हम न लेंगे
ज़िन्दगी के आंसुओं की माला पहनेंगे
मुश्किलों से लड़ते फिरते जीने में मज़ा है

नन्हे मुन्ने बच्चे तेरी मुट्ठी में क्या है ..

हमसे न छुपाओ बच्चो हमें तो बताओ
आने वाली दुनिया कैसी होगी समझाओ

आने वाली दुनिया में सब के सर पे ताज हो
न भूखों की भीड़ होगी
न दुखों का राज हो
बदलेगा ज़माना यह सितारों पे लिखा है

नन्हे मुन्ने बच्चे तेरी मुट्ठी में क्या है ...