भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बेआवाज़ कोठरियाँ / नजवान दरविश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह टँगी है अब भी काठ की एक टिकठी पर
और मैं कुल मिला कर महज चीख़ ही सकता हूँ
इन कोठरियों को कोई आवाज़ बेध नहीं पाती

रात-दिन
सर्दी और गर्मी में
वायु, अग्नि, पृथ्वी और जल में
अन्धेरे और उजाले में
अब भी टँगी है वह :

यह दुनिया टँगी हुई है काठ की एक टिकठी पर

अँग्रेज़ी से अनुवाद : राजेश चन्द्र