भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बेईमान तेरी बदमाशी का सब निर्णय हो ज्यागा / मेहर सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जैसा कर्म कर्या बन्दे नै डंड भरणा हो ज्यागा
बेईमान तेरी बदमाशी का सब निर्णय हो ज्यागा।टेक

मीराबाई भजन करै थी मन्दिर कै म्हां जाकै
उसके कारण राणा भी ल्याया था फौज सजा कै
किसै की ना पार बसाई लेग्या हांगे तै ब्याह कै
कीरा की ना राजी थी मारै था जहर खवा कै
उड़ै ठाकर जी प्रकट होंगे तेरा न्यू शरणा हो ज्यागा।

बीर पराई छेड़णियां का हुया करै मुंह काला
चन्द्रमा कै स्याही लागी ईब तक नहीं उजाला
महाभारत के दुर्योधन गया हार पाप का पाला
दु्रपद छेड़ी किचक मार्या विराट भूप का साला
उठा भीम नै टेक दिया तेरा न्यू धरणा हो ज्यागा।

नदी किनारै रहा करै थी इसी पाट दई रावण नै
एक सारस और एक सारसणी छांट दई रावण नै
आगै हो कै भाज लई पर काट दई रावण नै
वे बोली रे मत बिछड़ावै इसी डाट दई रावण नै
ऋषियां के घुणे मैं गिरगी तेरा न्यू गिरणा हो ज्यागा।

सप्त ऋषियों ने शराप दे दिया जब जाण पटी रावण की
जनकपुरी में दबा दई तकदीर छंटी रावण की
कहै मेहर सिंह साथ गई वा पंचवटी रावण की
उस सारसणी के परां के बदले भूजा कटी रावण की
मेघनाथ लछमन नै मार्या तेरा न्यू मरणा हो ज्यागा