भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बेख़ुदी आए बेकली आए / रविकांत अनमोल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बेख़ुदी आए बेकली आए
मेरे हिस्से भी शायरी आए

दिल को रहती है जुस्तजू जिसकी
वो मिरे सामने कभी आए

जिसमें हम ज़िन्दग़ी को जी पाएँ
कोई तो ऐसी ज़िन्दगी आए

मेरी ग़ज़लों से रौशनी फैले
मेरे गीतों से सरख़ुशी आए

कुछ तो आ जाए मेरे हिस्से भी
वस्ल आ जाए, हिज्र ही आए

मेरे शे'रों में कुछ नज़र उनको
मेरे इस दिल की तिश्नगी आए