भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बेगाना-वार हम से यगाना बदल गया / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बेगाना-वार हम से यगाना बदल गया
कैसी चली हवा कि ज़माना बदल गया

आँखें भी देखती हैं ज़माने के रंग-ढंग
दिल भी समझ रहा है ज़माना बदल गया

बदला न था ज़माना अगर तुम न बदले थे
जब तुम बदल गए तो ज़माना बदल गया

उन को दिलाईं याद जब अगली इनायतें
वो भी ये कह उठे कि ज़माना बदल गया

बस एक ऐ 'वफ़ा' मिरे मिटने की देर थी
मुझ को मिटा चुका तो ज़माना बदल गया।