भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बेटी / अरुण कुमार निगम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बेटी बिन सुन्ना हे, घर परिवार
बेटी बनके लछमी, ले अउतार।

घर के किस्मत देथे, इही सँवार
बिन बेटी के कइसे, परब-तिहार।

बेटी के किलकारी, काटय पाप
मंतर जइसे गुरतुर, मंगल जाप।

तुलसी के बिरवा कस, बेटी आय
जेखर आँगन खेले, वो हरसाय।

सुनो गुनो का कहिथें, सबो सियान
महादान कहिलाथे, कन्या-दान।

अरे कसाई झन कर, अतियाचार
बेटी के पूजा कर, जनम सुधार।