भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बेटे का खेल / तादेयुश रोज़ेविच

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे पढने के कमरे में घुस आता है मेरा मासूम बेटा
कहता है मैं एक चूहा हूँ
आप हैं गिद्ध ।

मैं मोड़ देता हूँ पढ़ी जाती क़िताब
मुझमें निकल आते हैं
एक गिद्ध के डैने और पंजे ।

अब मैं एक गिद्ध हूँ
और वह एक चूहा
हमारी मनहूस छाया दीवार पर लुका-छिपी खेल रही है ।

'अब आप एक भेड़िया हैं
मैं हूँ बकरी'
[उसने खेल बदल दिया है]
मैं घुमने लगता हूँ टेबल के चारों ओर
खिड़की की रौशनी के अन्धेरे में
भेड़िया चमकता है
नुकीले दाँतों के साथ ।

वह भागता है अपनी माँ को पुकारता
उसके नर्म आँचल में मुँह छुपा लेता है ।